संदेश

October, 2019 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

हे परमात्मा आप का मुझ पर एक एहसान रहे मेरे आपनो की कोई भी ख्वाहिश अधूरी

*हे परमात्मा आप का मुझ पर एक*
                 *एहसान रहे*
*मेरे आपनो की कोई भी ख्वाहिश अधूरी*
                      *ना रहे*
*चाहे जिसे मेरे अपने उससे कभी दूरी*
                      *ना रहे*
*खुशियों के पल इतने मिले मेरे अपनो कि*
                      *जीवन में*
*उनके चेहरे पर उदासी की झलक भी*
                        *ना रहे*
*सुभ प्रभात आपका दिन मंगलमय हो*

vishavmohan gaur Plz like and comment

कीतनी भोली हो आप औरो से बिल्कुल अलग हो आप

कीतनी भोली हो आप औरो से बिल्कुल,
                 अलग हो आप,
सबका सुरत देख कर दुसरो का दर्द,
              पहचानते हो आप,
परमात्मा करे सारी जीवन सदा यूं ही,
             मुस्कुराते रहो आप,
दूसरे के दिल के भावनाओं को भी,
             पहचानते हो आप,
vishavmohan gaur Plz like and comment

आप ने ऐसा कह दिया जिसका कोई जबाब नहीं

आप ने ऐसा कह दिया जिसका कोई जबाब नहीं,
फिर भी आप खुश रहो मुझे कोई आप से नराज नहीं,
आप के इन्तजार मे और कितने आंसू बहाऊं मै,
जब आप को खुदा ने मेरे नसीब में लिखा ही नहीं,
vishavmohan gaur Plz like and comment